lets free ur mind birds

Just for Soul

53 Posts

37859 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 591 postid : 1027

ये दिल मेरा दुश्मन

Posted On: 2 Mar, 2013 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

broken-heart-cards-2 (1)ये मेरा दिल इक धोखेबाज,
आंसुओं को पलकों में छुपा के रखता है
दिल के दर्द को हंसी में दबा के रखता है!!

ये मेरा दिल इक चोर,
चुराना चाहता है तेरे हिस्से के गम
न हो कोई भी शिकन न हो तेरी आंखे नम !
!
ये मेरा दिल इक वीराना,
सजाना चाहता है तेरे प्यार से अपने वीराने को
है खाली बस भरा है दिखाता है ज़माने को!!

ये मेरा दिल बहुत पागल,
अकेला दीवारों से कभी बातें सी करता है
कभी तो बोलेगी ये भी यही उम्मीद करता है!!

ये मेरा दिल इक टूटा आईना,
न जाने कैसे एक जीवन में इतनी मौते मर जाता है
मुझे जीने की इतनी लंबी सजा सुनाता है!!

ये मेरा दिल अकेला,
भीड़ –मफहिल में भी उदास रहता है
अगर कोई पूछ बैठे तो मुस्कुराहट ओड़ लेता है!!

ये मेरा दिल मेरा दुश्मन,
किसी भी दर्द के सामने झुकता नहीं है
न जाने क्यों धड़कने से कभी रुकता नहीं है..

न जाने क्यों धड़कने से कभी रुकता नहीं है..

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (9 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

1120 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

akraktale के द्वारा
March 15, 2013

न जाने कैसे एक जीवन में इतनी मौते मर जाता है मुझे जीने की इतनी लंबी सजा सुनाता है! ……………………..वाह! सुन्दर बधाई स्वीकारें आदरणीया रोशनी जी.

Baijnath Pandey के द्वारा
March 12, 2013

रोशनी जी, नमस्कार | क्या दिल पाया है आपने | शायद इसीलिए आपकी कविताओं की अनुगूँज स्वतः हृदय मे हीं उतर जाया करतीं हैं | इस खूबसूरत रचना की शान मे चंद पंक्तियाँ निवेदित हैं, “तू कहाँ था कि दिन ढला न मिला – ये बहाना है गम छुपाने की मुझको आहट थी तेरे आने की ; तुझको जल्दी थी भाग जाने की |”

    roshni के द्वारा
    March 12, 2013

    पाण्डेय जी नमस्कार ये मन ही है जो लिखवाता है .. ये आप का आभार है की आप सब साथी हमेशा रचना को सहराते है … आपकी लिखी पंक्तियाँ के लिए हार्दिक आभार ..

Shweta के द्वारा
March 12, 2013

बेहद खूबसूरती से अलफ़ाज़ और ज़ज्बात दोनों को सजाया है ……….

    roshni के द्वारा
    March 12, 2013

    dhanywad Shweta ji … apki pratikriya ke liye hardik abhar

seemakanwal के द्वारा
March 11, 2013

बहुत प्यारी गज़ल . हार्दिक बधाई .

    roshni के द्वारा
    March 12, 2013

    Seema ji gazal ko pasand krne ke liye hardik abhar

allrounder के द्वारा
March 11, 2013

बहुत खूब रौशनी जी, ….. एक बार फिर से अपनी चमकदार रचना से मंच को रोशन कर दिया आपने ! हार्दिक शुभकामनाएं आपको !

    roshni के द्वारा
    March 11, 2013

    धन्यवाद सचिन जी

    Essy के द्वारा
    July 12, 2016

    Bets – hahahahahaha to your second comment.You could get one of those big cardboard cutouts of him in the red leather jacket and place it around the house to freak the family ouoW7#8220;.ht&#821&;s that in the backyard? Holy crap! Call the police …. Oh. Wait. It’s just James Dean. Never mind.”

March 9, 2013

ये मेरा दिल इक धोखेबाज, आंसुओं को पलकों में छुपा के रखता है दिल के दर्द को हंसी में दबा के रखता है!!  बयां ए - सच्चाई , बहुत अच्छा ….. रोशनी जी , 

    roshni के द्वारा
    March 9, 2013

    सुधीर जी tarif ke liye hardik abhar

aman kumar के द्वारा
March 8, 2013

ये मेरा दिल अकेला, भीड़ –मफहिल में भी उदास रहता है अगर कोई पूछ बैठे तो मुस्कुराहट ओड़ लेता है!! दुनिया मे कितने गम है ,,,,,,,,,,,,,, एक अच्छी कविता | आपको बधाई हो !

    roshni के द्वारा
    March 9, 2013

    अमन जी रचना को पसंद करने के लिए बहुत बहुत आभार

shashi bhushan के द्वारा
March 8, 2013

आदरणीय रोशनी जी, सादर ! खूबसूरत भावभरी रचना !

    roshni के द्वारा
    March 9, 2013

    धन्यवाद शशि जी आभार

yatindrapandey के द्वारा
March 6, 2013

हैलो रोशनी जी बेहद सुन्दर दिल का दर्द कह गयी

    roshni के द्वारा
    March 9, 2013

    धन्यवाद यतिन जी आभार

    Monkey के द्वारा
    July 12, 2016

    Good – I really should surely pronounce, impressed along with your web site. I had no trouble navigating via all tabs and related info ended up being truly easy to do to access. I lately identified what I hoped for before you know it at all. Quite unusual. Is likely to appreciate it for those that add forums or something, web site theme . a tones way for your customer to coencmiuatm. Outstanding task.

PRADEEP KUSHWAHA के द्वारा
March 6, 2013

कांच से दिल वाली तारों की कारोबारी ले एक अहम् फैसला कशमकश छोड़ के दिल की दुश्मनी आज सामने लायी लिखते रहो प्रेम से बधाई है बधाई. आदरणीय रौशनी जी सादर

    roshni के द्वारा
    March 9, 2013

    आदरनिये कुशवाहा जी नमस्कार अपने तो मेरी कुछ टाइटल सा अच्छा सा शेर बना दिया .. बहुत अच्छी लगी आपकी ये प्रतिक्रिया ऐसे ही अपना आशीर्वाद देते रहिये आभार

yogi sarswat के द्वारा
March 6, 2013

ये मेरा दिल बहुत पागल, अकेला दीवारों से कभी बातें सी करता है कभी तो बोलेगी ये भी यही उम्मीद करता है!! ये मेरा दिल इक टूटा आईना, न जाने कैसे एक जीवन में इतनी मौते मर जाता है मुझे जीने की इतनी लंबी सजा सुनाता है!! बहुत बहुत सुन्दर अलफ़ाज़ आदरणीय रौशनी जी ! बहुत अच्छे शब्द

    roshni के द्वारा
    March 9, 2013

    योगी जी नमस्कार रचना की तारीफ के लिए आभार इसी तरह अपने विचारों से अवगत करवाते रहिएगा आभार

    Kaylana के द्वारा
    July 12, 2016

    I’m imrpsseed you should think of something like that

ashvinikumar के द्वारा
March 4, 2013

ये मेरा दिल इक धोखेबाज, ये मेरा दिल इक चोर, ये मेरा दिल इक वीराना, ये मेरा दिल बहुत पागल,, ये मेरा दिल इक टूटा आईना, ये मेरा दिल अकेला, ये मेरा दिल मेरा दुश्मन,……………. हद है इतने इल्जाम :)  खुदा खैर करे दिल तो दिल है इसे कोई इल्जाम न दो,, इसकी बेचारगी को तो समझो ! इसकी धड़कन को कोई नाम न दो ,,……………………..समर्पण भाव से सृजित रचना यूं स्व्च्छंदता से परवाज़ भरती रहे ।जय भारत

    roshni के द्वारा
    March 9, 2013

    अश्विनी जी नमस्कार कोई नाम नहीं है तबी तो इतने नाम है … तारीफ के लिए आभार

abodhbaalak के द्वारा
March 4, 2013

बहुत सुन्दर ….. ऐसे ही लिखती रहें रौशनी जी

    roshni के द्वारा
    March 5, 2013

    धन्यवाद अबोध जी

    Dweezil के द्वारा
    July 12, 2016

    You’re the gresteat! JMHO

आर.एन. शाही के द्वारा
March 3, 2013

वही तस्वीर, वही मिसरे, वही गहराई है … क्या बात ऐ दिल, तेरी तो बस बन आई है !’ भई वाह रौशनी । आपकी आप जानें, पर शायद पहली बार आपकी पंक्तियों में भरे दर्द से तक़लीफ़ की बजाय मेरा दिल बाग़-बाग़ हुआ जा रहा है । इसे बेशक खुदगर्ज़ी समझ सकती हैं, माफ़ी चाहूँगा । आपकी बेजोड़ पेशकश का चिरपरिचित अंदाज़ पंक्तियों के दर्द पर भारी है । उम्मीद है अब अधिक इंतज़ार नहीं करना पड़ेगा, कुछ न कुछ यूँ ही मिलता रहेगा । बधाई !

    roshni के द्वारा
    March 3, 2013

    नमस्कार शाही जी , आपकी ख़ुशी की वजह में समझ सकती हूँ.. और आगे भी कोशिश जारी रहेगी के मेरी पोस्ट से आपको और ख़ुशी हो .. कुछ न कुछ लिखने की कोशिश जरी रखते हुए आगे भी जरुर पोस्ट करुगी .. हमेशा की तरह उत्साहवर्धन और तारीफ के लिए हार्दिक आभार .. और आप कब अपनी अगली कविता पोस्ट कर रहे है इंतज़ार रहेगा … आभार

Malik Parveen के द्वारा
March 3, 2013

रौशनी जी बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति … दिल ही है जो टूटने पर भी धडकता है  :)

    roshni के द्वारा
    March 3, 2013

    परवीन जी तारीफ के लिए हार्दिक आभार

    Wiseman के द्वारा
    July 12, 2016

    Intgihss like this liven things up around here.

nishamittal के द्वारा
March 3, 2013

वाह रौशनी ,दिलवाले ही दिल का ये महत्व समझ सकते हैं

    roshni के द्वारा
    March 3, 2013

    निशा जी धन्यवाद

    Emily के द्वारा
    July 12, 2016

    TYVM you’ve solved all my prmeblos


topic of the week



latest from jagran