lets free ur mind birds

Just for Soul

53 Posts

37858 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 591 postid : 896

तारों का कारोबार

Posted On: 3 Jan, 2012 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

girl,sky,stars,wish,t,hope-44f765efef15798b367dca3527a9ac38_h_largeइश्क का इजहार कर या इससे इंकार कर
जो भी करना हो पूरे दिल से यार कर
……..

बनाना हो किसी को दोस्त या निभानी हो दुश्मनी ‘
तो सामने से हाथ बढ़ा न पीछे से वार कर
……..

खुदा से हो इश्क या इंसान से हो प्यार
हर शै मे फिर बस उसका ही दीदार कर
……..

यूँ तो तू प्यार मैं करता है मरने की बातें
पैदा करने वाले के लिए भी तो कुछ निसार कर
……..

मुद्दत हुई है शायद वो मुझे भूल गया है
पूछे वो मेरा हाल मुझे यूँ बीमार कर
……..

माना की मुझे पत्थर कहता है हर कोई
मै मोम हूँ तू तो मेरा ऐतबार कर
……..

था वो जनून तेरा थी बंदगी तेरी
कह के बेवफा न उसे रुसवा सरे बाजार कर
……..

फैला है अँधेरा दिलो में और रूह मैं
चल रौशनी आ अब तारों का कारोबार कर
……..

((मेरी और से जागरण के सभी साथियों को नववर्ष की हार्दिक बधाई सबके लिए नया साल खुशियों और सफलता से भरा हो ))

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

2170 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

dineshaastik के द्वारा
June 2, 2012

बहिन जी धीरे धीरे सभी वापस  आ   रहे हैं, आप भी वापस  आइये……..

    roshni के द्वारा
    June 5, 2012

    नमस्कार भाई साहिब जी जल्द ही हम भी वापस आ जायेगे .. याद रखने के लिए धन्यवाद

चन्दन राय के द्वारा
June 1, 2012

रौशनी जी , आपने जब मंच छोड़ा था सायद तभी में इस मंच से जुदा , आपकी रचना पढ़ी ,आप कमाल का लिखती है था वो जनून तेरा थी बंदगी तेरी कह के बेवफा न उसे रुसवा सरे बाजार कर बहुत खूब !

    roshni के द्वारा
    June 5, 2012

    चन्दन जी धन्यवाद

    Brysen के द्वारा
    July 12, 2016

    content is to build your brand. gie2&#8e30;pvople a great resource and they’ll share it with their friends. be memorable and remarkable and they’ll come back for more. it’s not easy to stand out online today, but becoming known as the authority or go-to-gal in your niche will…

Mohinder Kumar के द्वारा
May 31, 2012

रोशनी जी, खूबसूरत ख्यालात का इजहार किया है आपने अपनी इस रचना में. लिखते रहिये.

vikramjitsingh के द्वारा
March 9, 2012

मुद्दत हुई है शायद वो मुझे भूल गया है पूछे वो मेरा हाल मुझे यूँ बीमार कर…….. माना की मुझे पत्थर कहता है हर कोई मै मोम हूँ तू तो मेरा ऐतबार कर…….. एक उत्कृष्ट ब्लोगर से वंचित है मंच, कहाँ हो आप?

Aakash Tiwaari के द्वारा
February 27, 2012

रौशनी जी, एक-एक पंक्ति दिल में उतरती गयी.. चल रौशनी आ अब तारों का कारोबार कर… क्या बात कही आपने बहुत खूबसूरत आकाश तिवारी

manojjohny के द्वारा
February 23, 2012

कह के बेवफा न उसे रुसवा सरे बाजार कर…….. फैला है अँधेरा दिलो में और रूह मैं चल रौशनी आ अब तारों का कारोबार कर…….. बहुत खूब कहा है। बहुत ही सारगर्भित और सुंदर रचना। दिल की बातें कागज पर…

    roshni के द्वारा
    February 24, 2012

    मनोज जी आभार

    Kaylie के द्वारा
    July 12, 2016

    mirdrintrepcinoerilor a fost abrogat prin LEGEA nr. 76/2010 din 06 mai 2010 privind aprobarea Ordonantei de urgenta a Guvernului nr. 109/2009 pentru modificarea si completarea Legii nr. 571/2003 privind Codul fiscal.Reglementarile aplicabile

PRADEEP KUSHWAHA के द्वारा
February 16, 2012

आदरणीया रौशनी जी, सादर अभिवादन. १६ .१२.२०११ को मेरा जन्म इस मंच पर हुआ है. आपको subscribe kar rakha hai. रिव्यू करने पर पाया कि नेता लोग २४ घंटे बिजली देने की बात कह रहे हैं , वादा किया है २४ घंटे बिजली देने का पर मेरे मंच पर अभी अँधेरा है , कहीं उनके गुर्गों ने तो नहीं घेरा है बिजली तो मिल नहीं मिल पायेगी , हाँ तारों की दूकान चल जाएगी. कुछ तारों की दरकार है आप के पास तो भरमार है बधाई, विलम्ब के लिए क्षमा .

    roshni के द्वारा
    February 24, 2012

    परदीप जी नमस्कार कोई बात नहीं आपके मंच पर हम एक दो तारे भेज देगे जिससे आपके मंच पर अँधेरा न रहे … तारीफ के लिए शुक्रिया आभार

    Makaela के द्वारा
    July 12, 2016

    RaaiRgccrzPn: Neue Chancen2006 stellte Opel vier Bloggern einen Astra vor die Tür. Einer davon war ich, und so durfte ich dann auch den …

yogi sarswat के द्वारा
February 2, 2012

बहुत बहुत सुन्दर कविता ! मुद्दत हुई है शायद वो मुझे भूल गया है पूछे वो मेरा हाल मुझे यूँ बीमार कर…….. मधुर भाव और विशिष्ट शब्दों से सजी रचना , रोशनी जी ! http://yogensaraswat.jagranjunction.com/2012/01/30

    roshni के द्वारा
    February 2, 2012

    योगी जी धन्यवाद प्रशंसा के लिए आभार

वाहिद काशीवासी के द्वारा
January 27, 2012

हमेशा की तरह एक भावना प्रधान रचना रोशनी जी। सुन्दर साभार,

    roshni के द्वारा
    February 1, 2012

    वाहिद जी शुक्रिया

Sumit के द्वारा
January 16, 2012

शब्दों का बहुत अच्छा प्रयोग …… http://sumitnaithani23.jagranjunction.com/2012/01/12/2025-का-बॉलीवुड/

    roshni के द्वारा
    January 24, 2012

    सुमित जी बहुत बहुत आभार

utpal के द्वारा
January 12, 2012

रौशनी जी आपकी कविताओं मैं एक शीतल प्रवाह है ….. अच्छा लगा आपकी रचनाओं को पढ़ना …. इस कविता में ये दो पंक्तियाँ काफी अच्छी लगीं माना की मुझे पत्थर कहता है हर कोई मै मोम हूँ तू तो मेरा ऐतबार कर…….. सादर http://utpal.jagranjunction.com

    roshni के द्वारा
    January 24, 2012

    उत्पल जी धन्यवाद

    Judith के द्वारा
    July 12, 2016

    Thinking like that is really imesisrpve

manoranjanthakur के द्वारा
January 8, 2012

सुंदर भाव से सजी रचना बधाई

    roshni के द्वारा
    January 10, 2012

    धन्यवाद मनोज जी

    Cathy के द्वारा
    July 12, 2016

    That insight solves the preolbm. Thanks!

January 7, 2012

फैला है अँधेरा दिलो में और रूह मैं चल रौशनी आ अब तारों का कारोबार कर !! . बहुत ही खूबसूरत पंक्तियाँ । हार्दिक बधाई रौशनी जी ! :)

    roshni के द्वारा
    January 10, 2012

    संदीप जी तारीफ के लिए बहुत बहुत शुक्रिया

    Jeanne के द्वारा
    July 12, 2016

    Maureen, yo;u182#7&re so funny. Who’d ever think Scooby Doo could have such a big influence, huh??? I do imagine leaving your eyes open while shampooing isn’t the most relaxing experience! Try to see Friday Night Lights, you’ll get a chuckle or two from it, I promise!

allrounder के द्वारा
January 7, 2012

नमस्कार रौशनी जी, आपको विशेष रूप से धन्यबाद न सिर्फ आपने हमारे आलेख जागरण अखबार मैं देखें अपना ब्लॉग पर अपने विचार दिए बल्कि अपनी इस रचना ” तारों का कारोबार ” की रचना की जिससे इस आलेख को बल मिला की काव्यात्मक रचनाएँ भी प्रकाशित की जानी चाहिए ! आपका हार्दिक आभार रौशनी जी !

    roshni के द्वारा
    January 10, 2012

    सचिन जी , आभार तो आपका करना चहिये क्युकी आप ने ही कवियों के लिए आवाज उठने की पहल की और हमे भी जागरण अख़बार में जगह मिली .. आपका बहुत बहुत शुक्रिया और जागरण का भी आभार

minujha के द्वारा
January 6, 2012

सच्चाई और भावुकता के बीच सामंजस्य स्थापित करती रचना के लिए बधाई आपको

    roshni के द्वारा
    January 10, 2012

    मीनू जी धन्यवाद

RAJEEV KUMAR JHA के द्वारा
January 5, 2012

बहुत सुन्दर कविता लिखी है,रौशनी जी.इसी तरह तारों का कारोबार कर हम सभी पाठकों का मन लुभाते रहिये. नव वर्ष की शुभ कामनाओं के साथ, …….राजीव(http//dehat.jagranjunction.com)

    roshni के द्वारा
    January 10, 2012

    राजीव जी आपको भी नए वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये रचना की प्रशंसा के लिए आभार

allrounder के द्वारा
January 5, 2012

रौशनी जी, आपको भी नए वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये ! एक बार फिर से अपनी कल्पनाशीलता की उड़ान से हम सबको आनंदित करती रचना पर हार्दिक बधाई ! नए वर्ष मैं भी इसी प्रकार आप उत्तम रचनाओ का कारोबार करती रहे यही शुभकामनायें आपको !

    roshni के द्वारा
    January 10, 2012

    सचिन जी आपको भी नवर्ष की बधाई प्रोत्सहन के लिए और आपके विचारों और शुभकामनाओ के लिए बहुत बहुत शुक्रिया आभार

    Scout के द्वारा
    July 12, 2016

    ja, das ist wirklich peinlich. die puhdys habe ich auch mit absicht ganz zu letzt in die aufzählung geschrieben.die haben im gegensatz zu den anderen bands immer gute einschätzungen von den stasi-spitzeln bekommen. warum wohl? die haben irgendwie zunbamesgemraeitet.

Santosh Kumar के द्वारा
January 4, 2012

रौशनी जी ,.सादर नमस्ते बहुत अच्छी लगी आपकी सुन्दर रचना ,…हार्दिक बधाई

    roshni के द्वारा
    January 6, 2012

    संतोष जी नमस्कार रचना की तारीफ के लिए आभार

anamika के द्वारा
January 4, 2012

बहुत ही अच्छा लिखती है आप……यूं ही लिखते रहिये

    roshni के द्वारा
    January 6, 2012

    अनामिका जी धन्यवाद

    Natascha के द्वारा
    November 28, 2013

    Slam dunkin like Shaquille O’Neal, if he wrote inofrmative articles.

div81 के द्वारा
January 4, 2012

रौशनी जी, हमेशा की तरह खुबसूरत रचना आप की | बधाई

    roshni के द्वारा
    January 6, 2012

    दिव जी धनयवाद

mparveen के द्वारा
January 4, 2012

रौशनी जी सादर अभिवादन … खूबसूरत रचना के लिए और नव वर्ष के लिए हार्दिक शुभकामनायें …..

    roshni के द्वारा
    January 6, 2012

    परवीन जी नमस्कार रचना की तारीफ केलिए आभार और आपको भी नववर्ष की बधाई हो

आर.एन. शाही के द्वारा
January 4, 2012

था वो जनून तेरा थी बंदगी तेरी कह के बेवफा न उसे रुसवा सरे बाजार कर……..                 वाह रौशनी, क्या बात है ! एक बार फ़िर कमाल ही दिखाया आपने । आपकी रचनाओं में खुदा और आशिक, ख्वाब और दास्तान सब एक हो जाते हैं । बधाई ! ( आपकी कविता के साथ वाली तस्वीर का भी अपना ग़ज़ब का सम्मोहन है, चोरी करनी पड़ी ) ।

    roshni के द्वारा
    January 6, 2012

    शाही जी नमस्कार तारीफ के लिए शुक्रिया … और आप तो हमेशा ही दिल खोल कर तारीफ करते है … और रही बात कविता की तस्वीर की तो आप कविता bhi रख सकते है …. एक बार फिर से आपके अनमोल प्रतिक्रिया के लिए आभार

abodhbaalak के द्वारा
January 4, 2012

रौशनी जी खूबसूरत ग़ज़ल, आपने काफिये को तो सही पकड़ा है और बाकी हमारे ग़ज़ल एक्सपर्ट डाक्टर साहेब की बात पर भी ध्यान दे दें. क्योंकि मई तो अबोध हूँ इस लिए मै इतना दीप जाता नहीं, और ये गज़ल जिस रूप में है मुझे तो बहुत अच्छी लगी :) http://abodhbaalak.jagranjunction.com/

    roshni के द्वारा
    January 6, 2012

    अबोध जी ग़ज़ल की सराहना करने के लिए आभार और डॉक्टर साहिब जी की बात को भी हमने आपने दिमाग में रख लिया है और उनकी कीमती राय आगे बहुत काम आयेगी आभार

    Dontarrious के द्वारा
    July 12, 2016

    Søde MalkhaTislycke med den fine lille pige Håber hun snart er så frisk at I kan få lov at råkrammeog kysse hende hudløs Kæmpe kram og tanker Mie

January 4, 2012

क्या बात है रोशनी जी …..बहुत गहरे एहसास हैं । अगर अन्यथा न लें तो एक राय दूँ …आप इन सुंदर भावनाओं को मीटर मे रख कर लिखे …यानि शेर की दोनों मिशरों मे मात्राएँ और विन्यास एक ही तरह का हो तो ग़ज़ल बहर मे हो जाएगी और खूबसूरती निखर जाएगी !! मुद्दत हुई है शायद वो मुझे भूल गया है पूछे वो मेरा हाल मुझे यूँ बीमार कर……अच्छी रचना के लिए बधाइयाँ….नया साल मुबारक हो !!!

    roshni के द्वारा
    January 6, 2012

    डॉ सूर्या जी नमस्कार .. आपकी राय सर आँखों पर… जैसा की आपने एक्सप्लेन किया है मै उसे सिखने की और लागु करने की पूरी कोशिश करुगी … अनमोल राय और प्रतिर्किया के लिए तहे दिल से शुक्रिया आभार नया साल आपको भी बहुत बहुत मुबारक हो

    Jodecy के द्वारा
    July 12, 2016

    You’re the one with the brains here. I’m wacntihg for your posts.

vinitashukla के द्वारा
January 4, 2012

सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति. बधाई रौशनी जी.

    roshni के द्वारा
    January 6, 2012

    विनीता जी धन्यवाद

nishamittal के द्वारा
January 4, 2012

बहुत सुन्दर उद्गारों के साथ नव वर्ष की शुभकामनाओं से सज्जित रचना पर बधाई रौशनी.आपको नव्र्ष सब खुशियाँ देने वाला हो.

    roshni के द्वारा
    January 4, 2012

    निशा जी नमस्कार काफी दिनों बाद आपके द्वारा प्रतिक्रिया मिली और काफी खुसी हुई .. आपको भी नववर्ष की शुभकामनये रचना को पसंद करने के लिए धन्यवाद

dineshaastik के द्वारा
January 3, 2012

सुन्दर भाव,

    roshni के द्वारा
    January 4, 2012

    धनयवाद दिनेश जी

    Kailee के द्वारा
    July 12, 2016

    Love the concept! Every time I’m in Hilton Head, I head to a retrtusana, like Bistro 17, and order it for my dog! I’ve always heard that cooked food is better for dogs, but I’ve never seen my dog eat something so fast!

manish के द्वारा
January 3, 2012

muje aap ki har kavita bhut achi lagti he Roshni ji and wish u to happy new year………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………….2012………………………………………….

    roshni के द्वारा
    January 4, 2012

    मनीष , आपको भी नववर्ष की मंगलकामनाये अच्छा लगा जान कर की आप मेरी कविता को बहुत पसंद करते है .. फिर से शुक्रिया

Alka Gupta के द्वारा
January 3, 2012

रौशनी जी , सुन्दर रचना , नव वर्ष की मंगल कामनाएं

    roshni के द्वारा
    January 4, 2012

    अलका जी नमस्कार रचना को पसंद करने के लिए आभार नववर्ष की बधाई सवीकार करे

minujha के द्वारा
January 3, 2012

बहुत खुबसूरत कविता लिखी है आपने बधाईयां स्वीकार करें

    roshni के द्वारा
    January 4, 2012

    मीनू जी रचना को पसंद करने के लिए आभार

Abdul Rashid के द्वारा
January 3, 2012

सुन्दर रचना नव वर्ष की हार्दिक बधाई http://singrauli.jagranjunction.com/2012/01/02/यही-संदेश-हमारा/

    roshni के द्वारा
    January 4, 2012

    रशीद जी आपको भी नववर्ष की हार्दिक बधाई रचना को पसंद करने के लिए आभार

    Kasara के द्वारा
    July 12, 2016

    Yeah, Go, Riley! Loved it… AND most of all, as I told Denise, I absolutely loved that while you were phoohgrapting the event, I thought Kenny was going to have to muscle you out of the way to get his perfect shot. Riley had the paparazzi at his shin-dig!

akraktale के द्वारा
January 3, 2012

रौशनी जी नमस्कार और नव वर्ष की हार्दिक मंगलकामनाए, इश्क का इजहार कर या इससे इंकार कर जो भी करना हो पूरे दिल से यार कर…….. बहुत बढ़िया रचना. बधाई.

    roshni के द्वारा
    January 4, 2012

    अशोक जी आपको भी नववर्ष की हार्दिक बधाई रचना को पसंद करने के लिए आभार


topic of the week



latest from jagran