lets free ur mind birds

Just for Soul

53 Posts

37859 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 591 postid : 589

जिन्दगी की सबसे कीमती शै

Posted On: 26 Jan, 2011 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

दूसरों के घर जब चली जाती है ये बेटियां,
घर की रौनकों को भी संग ले जाती है ये बेटियां।।

जब जनम लेती है तो बोझ सी लगती है ये,
पर खुदा सी लगती है जब खिलखिलाती है ये बेटियां।।

सज संवर के माँ की नक़ल करती है जब ये कभी,
पूरे घर को अपना बचपन याद दिलाती है ये बेटियां।।

हर दरो दीवार लगती है तब झूमने,
काम करते करते जब कुछ गुनगुनाती है ये बेटियां।।

हर बला को कहती है सिर्फ उनपर ही आ जाये बस,
पापा को जब कभी उदास पाती है ये बेटियां।।

सूना-सूना बेरंग सा लगती है छत और जमीं,
जब कभी दुःख में खामोश हो जाती है ये बेटियां।।

हर तरफ दानव है फैले दामन को करने तार तार,
इसलिए जनम लेने से भी अब घबराती है ये बेटियां।।

संभल कर प्यार से पलकों पे सजा के रखो इन्हें,
कई जिंदगियों में प्यार की रौशनी फैलाती है ये बेटियां।।

प्यार की धूप और सम्मान की बारिश ही हो,
खो के खुद को अपनी पहचान चाहती है ये बेटियां।।

ये बेटियां ये बेटियां
सब रौनकें है बेटियां जिन्दगी की सबसे कीमती शै है ये बेटियां।।

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

1100 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Carlinda के द्वारा
July 12, 2016

proportion of possibly violent radicals in the population among Moslems is higher than that for Jews and lower than that for Christians.I don’t doubt that some significant percentange of Christians are “possibly violent ra28acls&#id21;. And I’m prepared to take on faith that a lesser percentage of Jews are “possibly violent radicals”. But I ain’t buying your assertion that the percentage of “possibly violent radicals” among Moslems is lower than that among Christians witout youse show ta me a real high brow study by forkin over one a dem linky tings youse alus askin narc for.

saurabhsinghs के द्वारा
February 11, 2011

ROSHNI JI MAINE APKI AAJ HI BETI BALI KAVIT PADI ,YE BAHUT HI SUNDAR LIKHI HAI. MAINE APKI AUR KAVITA BHI PADI ,IN KAVITAON ME HAJARON BHAVNAON KA ANUPAM SANGAM HAI. ROSHNI JI AAP EK BAHUT ACCHI KAVITRI HAI. KAVITAIN LIKHTI RAHIYEGA . KYOKI EK KAVI KHANA KHAYE BINA RAH SAKTA HAI PAR KAVITA LIKHE BINA NAHI RAH SAKTA. MERI SHUBH KAMNAIN APKE SATH HAIN.

    roshni के द्वारा
    February 16, 2011

    सौरभ जी इतनी सारी प्रशंसा के लिए हार्दिक आभार

saurabhsinghs के द्वारा
February 11, 2011

ROSHNI JI APKI KAVITA BAHUT ACCHI HAI.

    roshni के द्वारा
    February 16, 2011

    thank uu ji

shyamendra kushwaha के द्वारा
February 11, 2011

समाज को रौशनी दिखाती हैं ये बेटियां ——बहुत सुंदर रचना

    roshni के द्वारा
    February 16, 2011

    हार्दिक आभार

Vivekvinay के द्वारा
February 10, 2011

बहुत सुंदर रचना है ऐसा लगा की जैसे रेगिस्तान मैं किसी ने JHERNA देखा दिया हो

    roshni के द्वारा
    February 10, 2011

    विवेक जी बहुत बहुत शुक्रिया

February 10, 2011

रोशनी जी. मेरी भी एक बहुत प्यारी सी बेटी है, सिर्फ दो साल की. मैं भी ऐसा ही कुछ महसूस करता हूँ, मुझे ऐसा लगा की मेरे मन के उद्गारों को आपने व्यक्त कर दिया हो…….. सुन्दर रचना रौशनी जी….. मुबारक हो……

    roshni के द्वारा
    February 10, 2011

    दीपक कुमार जी मुझे बेहद ख़ुशी हुई की मेरे ये विचार एक पिता के विचार जैसे है ….पिता और पुत्री का प्रेम यु भी बहुत ही गहरा होता है ….और बेटी अपने पिता के ही सबसे ज्यादा करीब होती है …… धन्यवाद

allrounder के द्वारा
February 9, 2011

रौशनी जी, नमस्कार मुझे लगता नहीं है ये तस्वीर आपकी यहाँ से हटेगी इतनी जल्दी ………

    roshni के द्वारा
    February 9, 2011

    सचिन जी, तस्वीर का तो पता नहीं लेकिन हाँ बहुत अच्छा लगा की आप मुझे इस काबिल समझते है ……. बहुत बहुत धन्यवाद

    allrounder के द्वारा
    February 9, 2011

    रौशनी जी बुरा मत मानियेगा मैंने इसलिए लिखा है क्योंकि इस तस्वीर से आपकी प्यारी Birds गायब हैं शायद आपने नोट नहीं किया आप JJ से Request कीजिये की आपकी तस्वीर के साथ आपकी Birds भी लगाये क्योंकि आखिर आपके मन की इन Birds की बजह से ही आप यहाँ तक पहुंची हैं और JJ वाले आपकी बात मान लेंगे तो फिर आपकी ये तस्वीर यहाँ मौजूद रहेगी कुछ और दिन !

    roshni के द्वारा
    February 10, 2011

    सचिन जी इस बात का तो मुझे दुःख हुआ की यहाँ मै हूँ लेकिन मेरी प्यारी birds को उड़ा दिया गया ……..आखिर वह भी तो मेरे साथ ही है ….. काम तो सारा वही करते है और नाम हमारा हो गया …..

mithlesh के द्वारा
February 9, 2011

रोशनी जी , ब्लॉगर ऑफ़ द वीक बनने पर आपको मेरी ओर से हार्दिक बधाई

    roshni के द्वारा
    February 9, 2011

    मिथलेश जी बहुत बहुत धन्यवाद

rakeshgupta के द्वारा
February 8, 2011

रोशनी जी , ब्लॉगर ऑफ़ द वीक बनने पर आपको मेरी ओर से हार्दिक बधाई …….

    roshni के द्वारा
    February 9, 2011

    हार्दिक आभार राकेश जी

आर.एन. शाही के द्वारा
February 8, 2011

रौशनी जी, बेटियों पर रची गई आपकी अविस्मरणीय रचना वास्तव में ही आपको टाप ब्लागर घोषित करने के योग्य है । रचना एवं सप्ताह का ब्लागर बनने पर आपको ढेर सारी बधाइयां ।

    roshni के द्वारा
    February 8, 2011

    शाही जी वधाई के लिए हार्दिक आभार.. सब आप लोगों का स्नेह और आशीर्वाद है

rajubhai के द्वारा
February 6, 2011

Dear Roshni ji, heartiest wishes to you.

    roshni के द्वारा
    February 7, 2011

    Thanks a lot rajubhai ji………

Alka Gupta के द्वारा
February 6, 2011

रोशनी जी , ब्लॉगर ऑफ़ द वीक बनने पर आपको मेरी ओर से हार्दिक बधाई !

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    अलका जी वधाई के लिए हार्दिक आभार

Ramesh bajpai के द्वारा
February 6, 2011

प्रिय रौशनी जी बहुत बहुत मुबारक , बधाई | प्यार की धूप और सम्मान की बारिश ही हो, खो के खुद को अपनी पहचान चाहती है ये बेटियां।। यह पहचान नित बुलंद हो इसी कामना के साथ

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    आदरनिये वाजपेयी जी आप सबके आशीर्वाद और स्नेह के लिए और वधाई के लिए हार्दिक आभार

    Datherine के द्वारा
    July 12, 2016

    After studying a number of of the blog posts in your website now, and I truly like your method of blogging. I boekmarkod it to my bookmark web site listing and might be checking back soon. Pls try my web site as well and let me know what you think.

Bhagwan Babu के द्वारा
February 5, 2011

रोशनी जी किसी को यूँ ही नही मिलता है कोई तगमा कुछ न कुछ बात तो जरूर होता है तभी मिलता है किसी को कोई तगमा बधाई http://bhagwanbabu.jagranjunction.com/2011/02/04/%e0%a4%90%e0%a4%b2%e0%a4%be%e0%a4%a8-%e0%a4%8f-%e0%a4%aa%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a5%87%e0%a4%ae-%e2%80%93-valentine-contest/

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    भगवन बाबु जी बात का तो पता नहीं लेकिन ये सब बड़ों के आशीर्वाद से है जोभी है वधाई के लिए हार्दिक आभार

rajeev dubey के द्वारा
February 5, 2011

रोशनी जी, बधाई हो, वाह जी वाह, मंच पर सभी आप के इस सम्मान पर प्रसन्न दिखते हैं…इश्वर आपको सबका प्यार हमेशा देता रहे .

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    राजीव जी इस सम्मान पर सबका खुश होना मेरे लिए और भी खुशी की बात है ……… वधाई के लिए हार्दिक आभार

chaatak के द्वारा
February 5, 2011

रौशनी जी, आपको मोस्ट व्युड ब्लॉगर में चयनित देखकर बेहद ख़ुशी हुई| कविता निःसंदेह मंच पर प्रकाशित कुछ चुनिन्दा कविताओं में से है| बेटियों के सभी सजीव रंगों के साथ यथार्थ चित्रण पर बधाई!

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    चातक जी काफी दिनों बाद आप नज़र आये …….. कविता आपको अच्छी लगी और मेरी इस खुशी में शामिल होने के लिए धन्यवाद वधाई के लिए हार्दिक आभार

वाहिद काशीवासी के द्वारा
February 5, 2011

रोशनी जी, मुख्य पृष्ठ पर हफ़्ते भर के लिए छा जाने के लिए मुबारकबाद क़ुबूल करें|

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    वाहिद जी मुख्य पृष्ट पर हफ्ते भर के लिए छा जाना हर ब्लॉगर के लिए सुंदर अहेसास है वधाई के लिए हार्दिक आभार

Tufail A. Siddequi के द्वारा
February 5, 2011

मुबारकबाद.

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    Siddequi ji वधाई के लिए हार्दिक आभार

R K KHURANA के द्वारा
February 5, 2011

प्रिय रौशनी जी, सप्ताह का ब्लागर बनने पर मेरी और से बहुत बहुत मुबारक ! खुराना

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    Respected खुराना जी , ऐसे ही अपना आशीर्वाद देते रहिएगा वधाई के लिए हार्दिक आभार

allrounder के द्वारा
February 5, 2011

रोशनी जी, सप्ताह की सर्वश्रेष्ठ ब्लोगर चुने जाने पर आपको हार्दिक बधाई !

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    धन्यवाद सचिन जी ये सब ब्लॉगर साथियों के स्नेह और पाठको का सनेह के कारण है …… धनयवाद

div81 के द्वारा
February 5, 2011

रोशनी जी ब्लोगर आफ द वीक बनने पर हार्दिक शुभकामनाये ,

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    दिव जी वधाई के लिए हार्दिक आभार

सुभाष कांडपाल के द्वारा
February 5, 2011

रौशनी जी आपकी कविता दिल को छू गयी है. बहुत बहुत साधुवाद.

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    सुभाष जी धन्यवाद्

Dharmesh Tiwari के द्वारा
February 5, 2011

रोशनी जी ब्लोगर आफ द वीक बनने पर हार्दिक सुभकामनाएँ,धन्यवाद!

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    धर्मेश तिवारी जी वधाई के लिए हार्दिक आभार

    Dorothy के द्वारा
    July 12, 2016

    For people who know a bit about theory, this is fine but for people who dont know much theory, check out my channel for some simplified info on chord priosersogns.

deepak pandey के द्वारा
February 5, 2011

रौशनी जी , मुबारकबाद ब्लॉगर ऑफ़ द वीक बन्ने के लिए.

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    दीपक जी बहुत बहुत धन्यावाद

Deepak Jain के द्वारा
February 5, 2011

रौशनी जी, ब्लोगर ऑफ़ द वीक चुने जाने पर बहुत बहुत बधाई और ढेरों शुभकामनायें आपकी आने वाली रचनाओं के लिए दीपक जैन रायगढ़ (छ.ग.)

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    दीपक जी वधाई के लिए हार्दिक आभार..और आने वाली रचनाओ के लिए दी गयी wishes के लिए भी धन्यवाद

Syeds के द्वारा
February 5, 2011

सुन्दर रचना रौशनी जी, बेशक बेटियाँ घर की रौनक होती हैं,यह दुर्भाग्यपूर्ण है की आजकल (बल्कि हर दौर में) बहुत सारे लोग बेटियों के महत्व को समझ नहीं पाते… http://syeds.jagranjunction.com

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    syeds ji ये दुर्भाग्य ही है की बेटियों को अभी भी एक बोझ समझा जाता है …. और उनके महत्व को अनदेखा किया जाता है आपकी प्रतिक्रिया के लिए आभार

Harish Bhatt के द्वारा
February 5, 2011

रोशनी जी ब्लोगेर ऑफ़ द वीक बनने हार्दिक बधाई. बस ऐसे लिखती रहो.

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    हरीश जी वधाई के लिए हार्दिक आभार

Amit Dehati के द्वारा
February 4, 2011

रौशनी जी ब्लोगर ऑफ़ द वीक होने पर ढेर सारी बधाई !

    roshni के द्वारा
    February 6, 2011

    amit ji ये सब अपनों के प्रोत्सहन और ब्लॉगर साथियों से मिले संबल का कारन है धन्यवाद

    Cactus के द्वारा
    July 12, 2016

    Kære TutFrdfnyd!iantassisk Farmor, der giver dig alt dette i "livets rygsæk" og et helt unikt smukt stel.Jeg kigger ind pÃ¥ din blog daglig – den er sÃ¥ inspirerende …… ogsÃ¥ for mig, som ikke selv har en blog, men elsker hÃ¥ndarbejde i alle afskygninger.Mange hilsnerSine

Aakash Tiwaari के द्वारा
February 3, 2011

रौशनी जी, देरी से आगमन के लिए क्षमा… मै लड़का होते हुए भी लड़कियों की तरफदारी करूँगा….क्योंकि लड़कियां अपने हर रूप में बहुत ही केयरफुल होती है… http://aakashtiwaary.jagranjunction.com आकाश तिवारी

    roshni के द्वारा
    February 3, 2011

    आकाश जी धन्यवाद ,

Manish Singh "गमेदिल" के द्वारा
February 2, 2011

मेरा दिल कहता है – आँख हो भरी, फिर भी मुस्कुराए, अपने जज्बात को हर पल छुपाए, हर हालात में जो समझौता करे, जिसके दर से गम बेरंग लौटा करे, जो सदा काँटों की सेज में लेटी, वो लक्ष्मी स्वरूपा है अपनी बेटी…………….. दिल को छूती “खूबसूरत” रचना के लिए धन्यवाद्….. मनीष सिंह “गमेदिल”

    roshni के द्वारा
    February 2, 2011

    मनीष जी आपके विचार बहुत अच्छे है, ये सन्देश हर कोई जान समझ ले बस यही काफी है बहुत बहुत धन्यवाद

वाहिद काशीवासी के द्वारा
February 2, 2011

रोशनी जी, बीच में ब्लॉगिंग से दूर रहा सहसा यह कविता पढ़ी| मैं अवाक और अचंभित हूँ क्या कहूँ, मैं क्या कह सकता हूँ? बस कुछ शब्द… “स्वर्ग से ज्यों उतर कर, ख़ुद आ गई हों देवियाँ, मेरे घर में यूँ रही हैं, मेरी सारी बेटियां;” शुक्रिया,

    roshni के द्वारा
    February 2, 2011

    वाहिद जी आपके इतने अच्छे विचार के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ……… स्वर्ग से ज्यों उतर कर, ख़ुद आ गई हों देवियाँ, मेरे घर में यूँ रही हैं, मेरी सारी बेटियां;….. इन पंक्तियों का तो कोई जवाब ही नहीं वाह

HIMANSHU BHATT के द्वारा
January 30, 2011

रौशनी जी, नमस्कार, बहुत सुंदर रचना…..

    roshni के द्वारा
    January 31, 2011

    हिमांशु जी धन्यवाद

savitansh के द्वारा
January 29, 2011

समाज की भावना का अद्भुत स्पंदन है आपकी कविता में सागर सी गहराई है. भाव के असीमित संवेदना का एक समूह है आपकी कविता

    roshni के द्वारा
    January 31, 2011

    again thanks a lot

savitansh के द्वारा
January 29, 2011

आपने कविता के माध्यम से जिस प्रकार का प्रस्तुतीकरण किया है वह वास्तव में एक सच्चाई है आपका लेखन समाज को दिशा प्रदान करने में समर्थ है आप निरंतर लिखें प्रभु आपकी मनोकामना पूर्ण करे

    roshni के द्वारा
    January 30, 2011

    सविता जी प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत शुक्रिया ……. प्रभु की कृपा रही तो युही लिखते रहेगे ……..

alkargupta1 के द्वारा
January 29, 2011

रोशनी जी , निस्संदेह बेटियां बड़ी ही प्यारी और सबसे कीमती शै हैं…..बहुत ही सुन्दर व भावना प्रधान कविता…… लेकिन दुःख होता है देख सुन कर की अभी भी कुछ लोग बेटियों के जन्म पर दुखी होते हैं और भूल जाते हैं कि ये बेटियां ही दो दो घर की शोभा हैं काश !उन्हें समझ आये ! ऐसी रचना के लिए बधाई !

    savitansh के द्वारा
    January 29, 2011

    आपने सही कमेन्ट किया है समाज की भावना का अद्भुत स्पंदन है आपकी कविता में सागर सी गहराई है. भाव के असीमित संवेदना का एक समूह है आपकी कविता

    roshni के द्वारा
    January 30, 2011

    अलका जी, जी हाँ अलका जी अभी भी ऐसे लोग है जो बेटी पैदा न करने के लिए अपनी बहु पे दबाव डालते है और मारते पिटते भी है ……. l सिर्फ बेटी ही नहीं माँ भी आज इस दुःख से गुजर रही है .. एक बेटी तो हर कोई हस कर सवीकार कर लेता है मगर दूसरी को जनम देना किसी पाप से कम नहीं आपके विचारों के लिए धन्यवाद

abodhbaalak के द्वारा
January 29, 2011

sab kuchh to paa lia hai nahi chah ab koi par एक कमी से है जो नहीं पास betiyan, agar beti नहीं to phir aap एक aise anubhooti से anbhigy है जो …. sundar rachna roshni ji….ab to sundar shabd bhi … :) http://abodhbaalak.jagranjunction.com/

    roshni के द्वारा
    January 30, 2011

    अबोध जी, ये कमी बस एक बेटी ही पूरी कर सकती है , उसका होना ही जिन्दगी ही …… धन्यवाद

shifali के द्वारा
January 28, 2011

रौशनी जी , बेटियां बहुत प्यारी होती है …… अच्छी कविता

    roshni के द्वारा
    January 30, 2011

    धन्यवाद शिफाली जी

AMIT KUMAR GUPTA के द्वारा
January 28, 2011

नमस्कार रौशनी जी ,आपके द्वारा लिखी गई कविता बहुत ही पसंद आई. बेटियों से ही यह संसार जगमग कर रहा हैं. आज बेटो और बेटियों में फर्क कम देखने को मिलता हैं. फर्क वही दिखाई दे रहे हैं जो संकुचित मानसिकता के या अशिक्षित हैं या शिक्षित होता हुए भी अशिक्षित हैं. आज बेटिया हर क्षेत्र में टॉप कर रही हैं. हम सभी जानते हैं की “एक लड़की के शिक्षित होने से पूरा समाज शिक्षित होता हैं”. अच्छी लेख अमित कुमार गुप्ता हाजीपुर वैशाली बिहार http://www.amitkrgupta.jagranjunction.com

    roshni के द्वारा
    January 28, 2011

    अमित कुमार गुप्ता जी नमस्कार, आज बेशक फर्क कुछ काम है लेकिन अब बेटियां भी तो बहुत कम है ………उनकी संख्या गिरती जा रही है ……. और एक लड़की के शिक्षित होने से पूरा समाज शिक्षित होता हैं.. बिलकुल सच है ये ……. आपके विचार जान कर अच्छा लगा धन्यवाद

January 28, 2011

सब रौनकें है बेटियां जिन्दगी की सबसे कीमती शै है ये बेटियां।। बेवकूफ होते हैं वे लोग जो पुत्र की चाह में मरे जाते हैं और सृष्टि की इस अमूल्य देन को नहीं पहचान पाते. कुछ कहने लायक शब्द नहीं हैं यहाँ पर…..

    roshni के द्वारा
    January 28, 2011

    Rajender ji , पुत्र की चाह में भटकने वाले लोग ये नहीं जानते की एक बेटी सो बेटों के बराबर होती है ……….. माँ बाप की देखभाल में उन्हें प्यार करने में कोई कसार नहीं छोडती ….. आभार सहित

January 28, 2011

यकीनन बहुत ही प्यारी होती हैं बेटियां। अच्छी कविता।

    roshni के द्वारा
    January 28, 2011

    अंशुमाली रस्तोगी जी, बिलकुल सच कहा अपने

Dharmesh Tiwari के द्वारा
January 28, 2011

रोशनी जी नमस्ते,आपके इस कविता से उनको जो लड़की का पता चलने पर भ्रूण हत्या कर देते है को सबक लेना चाहिए,एक अच्छी सन्देश देती सुन्दर प्रस्तुती,धन्यवाद!

    roshni के द्वारा
    January 28, 2011

    धर्मेश तिवारी जी नमस्कार हम सबको ही सबक लेना पड़ेगा और जो ऐसा कार्य करते है उन्हें रोकना पड़ेगा ……….. धन्यवाद सहित

Preeti Mishra के द्वारा
January 28, 2011

“जिन्दगी की सबसे कीमती शै है ये बेटियां।।” मेरे मन की बात कह दी आपने रोशनीजी,लड़कियां माता पिता के लिए एक अमूल्य धन हैं. बहुत अच्छी रचना.बधाई

    roshni के द्वारा
    January 28, 2011

    Preeti ji , हम सब बेटियों के मन की बात एक ही होती है है न …… धन्यवाद आपके विचारों के लिए

    roshni के द्वारा
    January 28, 2011

    प्रीती जी ये मेरी तरफ से सब बेटियों को समर्पित है ….

nishamittal के द्वारा
January 28, 2011

रौशनी लडकी का महत्व वही समझ सकता है,जिसके पास बेटी नहीं है या ,मानवीय भावनाएं उसमें विद्यमान हैं,बहुत अच्छी मन को छूने वाली कविता सदा की भांति.

    roshni के द्वारा
    January 28, 2011

    निशा जी , बेटी की महत्व जानते हुए भी लोग न जाने क्यों बेटी पैदा होने पर कम से कम उस समाये तो बिलकुल भी खुश नही होते ….. बाद मे वही बेटी उनकी आँखों का तारा भी बन जाती है ……. आपके विचारों के लिए आभार

Piyush Pant, Haldwani के द्वारा
January 27, 2011

संभल कर प्यार से पलकों पे सजा के रखो इन्हें, कई जिंदगियों में प्यार की रौशनी फैलाती है ये बेटियां।। सुंदर प्रस्तुति……… बधाई………

    roshni के द्वारा
    January 28, 2011

    पियूष जी हमेशा की तरह प्रशंसा के लिए धन्यवाद

sdvajpayee के द्वारा
January 27, 2011

 रोशनी जी,  राष्‍टी्य मानवाधिकार आयोग के एक सदस्‍य के हवाले से एक समाचार आया था कि –  हर साल जन्‍म लेने से पहले ही देश में करीब सात लाख लडकियों की हत्‍या कर दी जाती है। गैर कानूनी तरीके से गर्भ परीक्षण कराने पर जब भ्रूण के लडकी होने का पता चलता है तो उसकी हत्‍या कर दी जाती है।   ऐसी कवितायें- विचार लैंगिक भेदभाव की इस भयावहता को कम करने में निश्चित रूप से सहाय‍क होंगे ।

    roshni के द्वारा
    January 28, 2011

    Savajpayee जी नमस्कार आज जब हर तरफ समनाता की बात की जाती है तो उस वक्त ये भुला दिया जाता है की बेटी और बेटे के बीच की असमानता को ही पहले दूर करना होगा ….दोनों को एक नजर से देखना होगा तबी तो बाकि बाते सार्थक होगी …… आपने अपने कीमती विचार यहाँ दिए इसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद

rita singh \'sarjana\' के द्वारा
January 27, 2011

रौशनी जी , बहुत सुन्दर रचना …………..दूसरों के घर जब चली जाती है ये बेटियां, घर की रौनकों को भी संग ले जाती है ये बेटियां।। जब जनम लेती है तो बोझ सी लगती है ये, पर खुदा सी लगती है जब खिलखिलाती है ये बेटियां।। सज संवर के माँ की नक़ल करती है जब ये कभी, पूरे घर को अपना बचपन याद दिलाती है ये बेटियां।। ढेरों बधाई l

    roshni के द्वारा
    January 27, 2011

    रीता जी , बहुत बहुत धन्यवाद ..

allrounder के द्वारा
January 27, 2011

रौशनी जी, एक बार फिर से शानदार रचना पर बधाई ! सचमुच बेटियां घर की रौनक होती हैं, विवाह से पहले इनके घर मैं रहने से उजाला रहता है, और विवाह के पश्चात ये ससुराल मैं भी रौनकें ही बढ़ाती हैं ! शानदार जज्बात पेश करने पर एक बार फिर से बधाई !

    roshni के द्वारा
    January 27, 2011

    सचिन जी, आपने बिलकुल सही कहा …………. बहुत बहुत धन्यवाद

Deepak Jain के द्वारा
January 27, 2011

nice one Roshni ji

    roshni के द्वारा
    January 27, 2011

    thank u deepak jain ji for comment

January 26, 2011

रोशनी जी, आपने ठीक कहा-’कई जिंदगियों में प्यार की रौशनी फैलाती है ये बेटियां’ काश! यह बात उन दंरिदों को समझ में आये-जो जन्म लेने से पहले ही एक बेटी की हत्या कर देंते हॆं.क्या वे नहीं जानते कि मानव जाति का वो कितना बडा नुकसान कर रहे हॆं.वह भी किसी की बेटी ही हॆ जो आज हमें पत्नी के रुप में मिली हॆ तो कल हमारे बच्चों को जन्म देकर-जननी भी बनेगी.कितने रुप में ये बेटियां.बहुत ही सुंदर रचना.

    roshni के द्वारा
    January 27, 2011

    विनोद पराशर जी , आज के जो हालत है उससे तो ऐसा लगता है इनकी जान और इनका पूरा असितव ही खतरे में है ……..काश के हम इन्हें एक पूरा सुरक्षित माहौल दे सके …………. प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद

Amit Dehati के द्वारा
January 26, 2011

रोशनी जी एक बार फिर ………अच्छी रचना ……. शरू से ही इमोसनल करने लगी थीं और अंततः आँखे भी नाम कर गये …. भावुक करने वाली पंक्तियाँ ——– हर तरफ दानव है फैले दामन को करने तार तार, इसलिए जनम लेने से भी अब घबराती है ये बेटियां।। संभल कर प्यार से पलकों पे सजा के रखो इन्हें, कई जिंदगियों में प्यार की रौशनी फैलाती है ये बेटियां।। बधाई स्वीकारें ……

    roshni के द्वारा
    January 27, 2011

    अमित देहाती जी बहुत बहुत धन्यवाद

naturecure के द्वारा
January 26, 2011

रोशनी जी, बहुत सुन्दर ……… गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें | डॉ. कैलाश द्विवेदी

    roshni के द्वारा
    January 27, 2011

    डॉ. कैलाश द्विवेदी जी धन्यवाद और आपको भी गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें |

Shailesh Kumar Pandey के द्वारा
January 26, 2011

हर बला को कहती है सिर्फ उनपर ही आ जाये बस, पापा को जब कभी उदास पाती है ये बेटियां।। रोशनी जी एक बार फिर से सुन्दर रचना बधाई

    roshni के द्वारा
    January 27, 2011

    Shailesh Kumar Pandey ji, आपकी टिप्पणी के लिए शुक्रिया

ashishtiwari के द्वारा
January 26, 2011

nice poem

    roshni के द्वारा
    January 27, 2011

    ashishtiwari ji, thanks a lot

Harish Bhatt के द्वारा
January 26, 2011

रोशनी जी नमस्ते, बहुत अच्छा लिखा है…… संभल कर प्यार से पलकों पे सजा के रखो इन्हें, कई जिंदगियों में प्यार की रौशनी फैलाती है ये बेटियां।। बहुत ही बेहतरीन दिल को छू जाने वाली कविता के लिए हार्दिक बधाई.

    roshni के द्वारा
    January 27, 2011

    हरीश जी नमस्ते, धन्यावाद


topic of the week



latest from jagran